दोस्त की मकान मालकिन की चुदाई | Desi Sex Kahani in Hindi

दोस्त की मकान मालकिन की चुदाई, Desi sex stories in hindi language, Hindi sex kahani, Antarvasnah sex stories, Dost ki makan malkin ki chudai, Hindi Chudai.

दोस्त की मकान मालकिन की चुदाई

हेल्लो दोस्तों नमस्कार मैं राजीव पटेल आप सब के सामने अपनी सच्ची कहानी लेकर आया हूँ | बात उन दिनों की है जब मैं इलाहाबाद में रहता मेरे एक दोस्त ने मुझे बुलाया और कहा की वो रूम शिफ्ट करने जा रहा है | और उसने मुझसे मदद मांगी मैं गया उसके साथ हम दोनों जैसे ही वह पहुंचे वहा एक आंटी खड़ी थी | एक दम टोटा लग रही थी क्या जबरदस्त माल थी | मेरी नजर तो उनसे हट ही नहीं रही थी | मैंने अपने दोस्त से उनके बारे मैं पुछा तो पता चला की वो ही मकान मालकिन है | ब्लैक साडी मैं क्या कमाल लग रही थी | उनके टाईट बूब्स ब्लाउज से निकलने को मचल रहे थे उनकी उम्र लगभग 30 के करीब होगी | उनको देख कर मेरे मन की वासना जागने लगी |

फिर हम दोनों सामान उतारने लगे और रूम मैं सेट करने लगे धूप बहुत तेज थी | जिसके कारण हम दोनों को प्यास  लग गयी तो मेरे दोस्त ने कहा की आंटी से पानी मांग लो मैं आंटी के पास गया जो की रूम के बाहर ही खाड़ी थी | मैंने पानी के लिए कहा तो पहले वो थोडा मुस्कराई और फिर अपनी मोटी गांड मटकाते हुए पानी लेने चली गयी |

मैं भी उनके पीछे ही चल पड़ा और उनसे पुछा की अंकल दिखाई नहीं दे रहे? तो उन्होंने बताया की अंकल जॉब की वजह से ज्यादा तर बाहर ही रहते है और इस समय राजस्थान में है | मैंने उनसे पूछा की और कौन – कौन रहता है घर मैं तो उन्होंने बताया की उनका एक लड़का है जो की इलाहाबाद मैं पढाई कर रहा है और फिर मैंने पानी की बोतल ली और अपने दोस्त के रूम में आ गया | मैं बहुत थक चुका था इसीलिए मैं दोस्त के रूम पर ही सो गया |

शाम को लगभग 7 बजे आंटी रूम मैं आई हम थके हुए थे और अभी भी सोये हुए थे उन्होंने मुझे जगाया | मैं उन्हें देखते ही रह गया गुलाबी साड़ी में क्या गजब माल लग रही थी | फिर मैंने अपना मुह धोया वो बोली की वो बाहर जा रही है रूम की चाबी देनी थी दोस्त को और उन्होंने कहा की अगर कोई चीज की जरूरत हो तो मुझे फ़ोन करना और फिर उन्होंने मेरा मोबाइल नम्बर लिया और मुझे अपना मोबाइल नम्बर दिया मैंने उनसे कहा की मैं यहाँ नहीं रहने वाला हूँ मेरा दोस्त यहाँ रहेगा| तो उन्होंने थोड़ी नॉटी सी स्माइल दी और चली गयी |

रात को लगभग 11 बजे उनका फ़ोन आया |दिन के काम की वजह से मैं बहुत थका हुआ था और बहुत गहरी नीद मैं सो रहा था|मैंने बिना मोबाइल देखे ही उनका फ़ोन रिसीव कर लिया|

फोन से लड़की की आवाज आयी हेल्लो तो मैंने फोन की स्क्रीन देखी तो आंटी का फोन था | मैं शाक हो गया मुझे मालूम था की उनका फोन आएगा पर इतनी जल्दी कबी नहीं सोचा था |फिर हमने बातें शुरू की करीब 1 बजे तक हमारी बात चली | फिर हम सो गए|

दूसरे दिन दोस्त की कुछ चीजे मेरे पास थी तो वो लौटने के बहाने मैं वहां गया| तभी आंटी सब्जी खरीद कर आ रही थी | मै उनको देख कर मुस्कुराने लगा उन्होंने भी मुझे देख कर एक प्यारी सी स्माइल दी इसी तरह अब हम रोज बातें करने लगे| कभी- कभी एडल्ट बातें भी हो जाया करती थी | वो मेरे साथ बहुत खुश थी |

फिर एक दिन हम फोन पे बातें कर रहे थे वो बातें करते –करते रोने लगी और बताने लगी की उनका पति उनकी जरा सी भी केयर नहीं करता और बिना बात झगड़ता है और कभी-कभी मारता भी है |मैं एक दम चुप था मुझे समझ में नहीं आ रहा था की मैं क्या बोलूं फिर मैंने उन्हें बहुत समझाया और कहा की कल मैं तुम्हारे घर आऊंगा फिर इस बारे में बात करेंगे बस आप शांत हो जाइये पर वो रोये ही जा रही थी फिर मैं उन्हें एडल्ट जोक सुनाने लगा वो थोडा शांत हुई तो उन्होंने कहा मुझे ऐसे जोक बिलकुल पसंद नहीं है मैंने कहा कोई बात नहीं मैं चुप हो जाता हूँ| तो उन्होंने कहा अच्छा कोई बात नहीं तुम सुनाओ फिर हमने ढेर सारी एडल्ट बातें की अब वो खुश थी | फिर मैं फोन काट दिया और सोने की कोशिश करने लगा पर मुझे नींद नहीं आ रही थी | फिर मैं बाथरूम मैं गया और उनकी चुचियों को अपने मन में याद करके उनके नाम की मुठ मरी तब जाके मुझे नींद आई |

दुसरे दिन मैं सुबह जल्दी ही उठ गया क्यूंकि मुझे आंटी के घर जाना था| मै जल्दी तैयार हुआ और आंटी के घर की और निकल पड़ा मेरे मन में लड्डू फूट रहे थे| डोर बेल बजाई तो उन्होंने दरवाजा खोला|सुबह के 11 बज चुके थे बाहर काफी धूप थी जिससे मुझे पसीना आ रहा था और डर भी लग रहा था|उन्होंने मुझे जूस लाकर दिया और मेरे सामने आकर बैठ गयी और अपने पल्लू से मेरे चेहरे का पसीना पोछने लगी उनके मम्मे मेरी आँखों के सामने थे|

मैं उनके मम्मो को देखने लगा मैं उनपर से अपनी नजरे हटा नहीं पा रहा था | मेरा लंड एक दम सख्त हो गया था| जींस के ऊपर से मेरा लंड साफ़ दिख रहा था | शायद उन्होंने देख लिया था और वो थोडा और पास आ गयी अब मेरा मुहं एक दम उनके मम्मो से जाकर टकरा गया| मेरा कंट्रोल खोने लगा था मैंने बहुत कोशिश की पर मैं खुद को नहीं सम्हाल पाया और मैंने अपने हाँथ उनकी कमर मैं डाले और उन्हें सामने वाले सोफे पर जाकर लिटा दिया |

वो बोली क्या कर रहे हो मैंने कहा जो आप मुझसे चाहती है वो ही कर रहा हूँ| वो हँसने लगी और मैंने उनके मम्मो पर अपना मुह रख दिया और ब्लाउस के ऊपर से ही मसलने लगा| वो मदहोश होने लगी थी |मैंने अपने हाथ उनके ब्लाउस मैं डाल दिया और उनकी चुचियों को मसलने लगा उनके मम्मे बिलकुल आग की तरह गरम थे सायद अब उन्हें भी मजा आने लगा था |

फिर मैंने धीरे से उनके ब्लाउस को निकाल दिया और ब्रा निकाल कर फैंक दी एक मम्मे को अपने मुह मैं लिया और दुसरे को अपने हाथ से मसल रहा था, आधा घंटे तक हमारा ये कार्यक्रम चला फिर वो बोली चलो बेडरूम मैं चलते हैं फिर मैंने उनको गोद में उठाया और ले जाकर बेड पर लिटा दिया अब उन्होंने मेरी पैंट पर हाथ लगाया और मेरी पैंट खोलकर निकाल दिया और मेरे लौड़े को अंडरवियर के ऊपर से ही चाटने लगी फिर मैंने थोड़ी देर मैं अपनी अंडरवियर और टी –शर्ट निकाल दी और एक दम नंगा हो गया |

फिर मैंने उनको उठाया और उनको बेड पर लिटा दिया अब वो सिर्फ पेटीकोट मैं मेरे सामने थी|फिर मैं उनके ऊपर लेट गया और उनके बदन को अपने होठों से चूमने लगा और उनके मम्मे के दानो को अपनी जीभ से सहलाने लगा धीरे- धीरे मैं नीचे की ओर बढ़ने लगा और उनकी कमर चूमते हुए उनके पेटीकोट को उतार फैका और अपनी जीभ को उनकी चूत में चड्डी के ऊपर से डालने लगा वो एक दम तड़प उठी और मेरे सर को अपनी चूत की तरफ दबाने लगी फिर मैंने उनकी चड्ढी भी निकाल कर फैंक दी|

अब वो मेरे सामने पूरी नंगी पड़ी थी |उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था सायद आज ही शेव की थी |मैंने पूछा की एक भी बाल नहीं है आज ही बनाये है क्या ||?पहले तो थोडा शर्मा गयी फिर बताने लगी की आज नहाते वक़्त शेव किया था|उनकी चूत एक दम गुलाबी थी मैंने उनकी चूत पर अपना मुह रख दिया और उनकी चूत को अपने मुह से चोदने लगा |फिर मैंने अपनी एक ऊँगली उनकी चूत में घुसा दी वो एक दम चिल्ला उठी आहाह्ह्ह|और कहने लगी जरा धीरे से डालो मेरे राजा 6 महीनो से ऐसे ही पड़ी है ऐसे करोगे तो दर्द बहुत होगा |पर मैं कहा सुनने वाला था मैंने धीरे-धीरे स्पीड और बढ़ा दी और जोर से ऊँगली करने लगा| आह्ह्हह्ह ओह अह्ह्हह्ह्ह्ह इश्ह्हह् आह्ह्हह्ह  आह्ह्ह्हह्ह की मादक सिस्कारियां पूरें कमरे मैं गुजने लगी और फिर वो मेरे हांथों मैं ही झड गयी |

अब मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था तो मैंने उन्हें किस की और उनको ऊपर लेट के उनके मम्मो को दबाने लगा और अपने लंड को उनकी चूत पर रगड़ने लगा उनके मुह से स्श्ह्हह्ह श्ह्स्सस्स्स्स की आवाजे निकाल रही थी और फिर मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर रखा और पूरा लंड एक बार मैं ही अन्दर पेल दिया वो दर्द के मारे चिल्ला उठी उन्होंने अपने नाखून मेरी पीठ मैं घुसा दिए थे | पर जोश के कारण मुझे जरा सा भी दर्द नहीं हुआ और मैं लगातार धक्के लगाता गया | और उनके गुलाबी होंठों को चूमता रहा जिसे वो थोडा शांत हुइ मैंने थोड़ी सी स्पीड और बढाई और अब उन्हें भी मज़ा आने लगा था क्यूंकि अब वो भी कमर चला कर मेरा साथ दे रही थी |

फिर मैं खड़ा हो गया और उनकी दोनों टांगों को उठाकर अपने कंधे पर रख लिया और उनके टांगों को फैला कर उनकी कमर को अपने दोनों हांथों से पकड़ कर धीरे से झटके मारने लगा उन्हें बहुत दर्द हो रहा था वो बेडशीट को अपने हांथों से पकड कर नोच रही थी और उनकी आँखों से आंसू निकाल रहे थे | मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उनके होंठों को किस करने लगा अब वो थोडा शांत थी फिर उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया और ऊपर-नीचे करने लगी और अपने मुह मैं रख लिया वो मेरे लंड को लोलीपोप की तरह चुसे जा रही थी | मैं झड़ने वाला था मैंने कहा की मैं झड़ने वाला हूँ तो उन्होंने मेरा लंड अपने मुह मैं ले लिया मैं उनके मुह मैं ही झड गया वो मेरा सारा माल पी गयी और मेरे लौड़े को चूस कर फिर खड़ा कर दिया अब उन्होंने मुझे बिस्तर पर धकेल दिया खुद मेरे ऊपर चढ़ गयी और मेरे लंड को चूत में ले लिया और जोर से कमर चलाने लगी  मैं भी नीचे से धक्के लगा रहा था|वो आःह्ह ओह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह उम्म्म इश्स्स्स औह्ह्हह्ह चोदो अह्ह्ह्ह जोर से अह्ह्ह्हह उम्म्म ओह्ह्ह्ह इम्म्म्म अह्ह्ह्ह  आअह्ह्ह्ह इह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह  इश्ह्ह्ह की आवाजे निकाल के पूरे मज़े ले रही थी जैसे उनकी चूत बरसो से भूंखी  हो 15 मिनट की चुदाई के बाद वो झड गयी पर मैं अभी बचा था तो मैंने उनकी उनकी गांड मैं ऊँगली डाली तो वो पहले तो माना करने लगी फिर मेरे बहुत जोर देने पर उन्होंने कहा चलो मार लो पर इसमें कुछ लगा लो मेरी गांड आज तक किसी ने नहीं मारी फिर उन्होंने वैसलीन की डब्बी उठाई और मेरे लंड पे लगा दिया फिर मैंने डब्बी ली और उनकी गांड में वैसलीन लगा दी और उनकी गांड पर अपना लंड रखा और धक्के से अन्दर पेल दिया वो एक दम चिल्ला उठी फिर मैंने थोड़े धक्के धीमे किये और धीरे –धीरे करने लगा और फिर मैं झड गया फिर हम दोनों कुछ देर ऐसे ही नंगे पड़े रहे फिर वो उठी और मेरे गाल पे किस किया और नहाने चली गई |

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *